Connect with us

Uncategorized

Bollywood News In Hindi : After Kangana, Rangoli Chandel now targeted on the PR team of Sadha Sushant, said- ‘Sushant-Ankita broke away from his saying’ | कंगना के बाद अब रंगोली चंदेल ने साधा सुशांत की पीआर टीम पर निशाना, बोलीं- ‘इनके कहने से अलग हुए सुशांत-अंकिता’

Published

on

दैनिक भास्कर

Jun 20, 2020, 09:38 PM IST

सुशांत सिंह राजपूत के सुसाइड को कंगना रनौत लगातार हत्या बता रही हैं। उनका मानना है कि बॉलीवुड माफिया ने ही उन्हें आत्महत्या करने के लिए उकसाया है। अब कंगना रनोट के बाद उनकी बहन रंगोली ने सुशांत की पीआर टीम पर निशाना साधते हुए उन्हें अंकिता- सुशांत के ब्रेकअप का जिम्मेदार ठहराया है।

हाल ही में सुशांत और अंकिता के करीबी दोस्त संदीप सिंह ने अपने इंस्टाग्राम से तीनों की तस्वीर शेयर करते हुए एक भावुक पोस्ट लिखी थी। इसमें उन्होंने पुरानी यादें ताजा करते हुए लिखा कि केवल अंकिता ही सुशांत को बचा सकती थीं। अब इसे रीपोस्ट करते हुए रंगोली चंदेल ने सुशांत की पीआर टीम पर निशाना साधा है।

View this post on Instagram

Dear Ankita, with each passing day, one thought keeps haunting me over and over again. Kaash… I wish… We could have tried even harder, we could’ve stopped him, we could’ve begged him! Even when you both seperated, you only prayed for his happiness and success… Your love was pure. It was special. You still haven’t removed his name from the nameplate of your house❤️ I miss those days, when the three of us stayed together in lokhandwala as a family, we shared so many moments which bring tears to my heart today…cooking together, eating together, ac ka paani girna, our special Mutton bhaat, our long drives to uttan, lonavala or Goa! Our crazy holi! Those laughs we shared, those sensitive low phases of life when we were there for each other, you more than anyone. The things you did to bring a smile on Sushant’s face. Even today, I believe that only you two were made for each other. You both are true love. These thoughts, these memories are hurting my heart…how do I get them back! I want them back! I want ‘us three’ back! Remember the Malpua!? And how he asked for my mother’s Mutton curry like a little kid! I know that only you could’ve saved him. I wish you both got married as we dreamt. You could’ve saved him if he just let you be there…You were his girlfriend, his wife, his mother, his best friend forever. I love you Ankita. I hope I never lose a friend like you. I won’t be able to take it.

A post shared by Sandip Ssingh (@officialsandipssingh) on Jun 19, 2020 at 8:44am PDT

रंगोली ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर तस्वीर रीपोस्ट करते हुए लिखा, ‘संदीप बहुत अच्छा लिखा है। सुशांत ने एक फैंसी पीआर रखा था जो मूवी माफिया के लिए काम करती थी। उसने ही सुशांत से कहा था कि तुम्हारा एक्साइटिंग पेयर होना चाहिए। यहां लोग इसलिए प्यार में नहीं पड़ते क्योंकि उन्हें प्यार है बल्कि यहां सब ब्रांडिंग है। अपनी ब्रांड बनाओ, ये समय है जब तुम अपनी कमजोरी भूलकर रणवीर सिंह और रणबीर कपूर की तरह एक सुपर मॉडल को डेट करो या उसे जो फिल्मी बैकग्राउंड से आता हो’।

View this post on Instagram

So nicely written Sandeep, he hired a fancy Bollywood PR, she works for movie mafia she told him you need exciting pair to create media frenzy like your contemporaries, here people don’t fall in love because they are in love here every thing is branding, build your brand this is the time forget your personal weaknesses now, date a super model like Ranveer or Ranbir or someone with connections who comes from film family, it’s not good for your image to live in Malad with a tv actress if you want to be in the big league you must behave like them, walk like them, live where they live otherwise you will always be a struggling tv actor, Ankita and Shushant had bought a house together he left, she was devastated but they broke his backbone, he shifted to Bandra, these fake friends surrounded him he started to date super models but he was lost, when I had known this long back because of common friends I thought to myself all this won’t help, and that’s exactly what happened no matter what he did they didn’t accept him they didn’t let him live either, their strategy worked soon fake PR and friends left and he got lonely and depressed, they used this opportunity to hit him even harder with more nasty gossiping and bigger bans and finally he left …… you are right wish there was a way to block those blinding lights of show business and it’s fake promises …. wish there was a way to block the mirage that movie mafia flash at every outsider who is loaded with talent, grit and ambition … 💔

A post shared by Rangoli Chandel (@rangoli_r_chandel) on Jun 20, 2020 at 2:04am PDT

आगे उन्होंने कहा, ‘उनसे कहा गया था कि मलाड में किसी टीवी एक्ट्रेस के साथ रहना तुम्हारी छवि के लिए ठीक नहीं है। अगर तुम्हे बड़ी रेस का हिस्सा बनना है तो तुम्हे भी उन लोगों की तरह रहना होगा। वहां रहो जहां वो लोग रहते हैं वरना तुम एक स्ट्रगलिंग टीवी एक्टर कहलाओगे। अंकिता और सुशांत ने एक घर खरीदा था जिसे सुशांत ने छोड़ दिया। वो काफी दुखी थी मगर सुशांत की बैकबोन तोड़ दी गई थी। वो बांद्रा शिफ्ट हो गया उसके आस-पास नकली लोग थे, उसने सुपर मॉडल्स को डेट किया मगर वो खो गया था’। 

रंगोली ने अपनी पोस्ट में बताया कि उन्होंने इस बारे में अपनी एक कॉमन दोस्त से सुना था। आगे उन्होंने लिखा, ‘उसने जो कुछ भी किया उसके बावजूद उसे नहीं अपनाया गया, ना उसे जीने दिया गया। उनकी स्ट्रेटेजी काम कर गई। नकली पीआर और दोस्त चले गए और वो अकेला और डिप्रेस हो गया। मौके मिलते ही उसे और मारा गया, घटिया गोसिपिंग और बड़े बैन से आखिरकार वो छोड़ गया। तुम सही हो संदीप काश नकली वादों और शो बिजनेस की अंधा करने वाली रोशनी को ब्लॉक किया जा सकता। काश किसी तरह से उस मिराज को ब्लॉक किया जा सकता जो मूवी माफिया टैलेंटेड आउटसाइडर को दिखाते हैं’।

कंगना रनोट ने उठाए सवाल

सुशांत की मौत के बाद कंगना लगातार मूवी माफिया और नेपोटिज्म के मुद्दों पर बेबाकी से बात कर रही हैं। हाल ही में कंगना की कुछ वीडियोज सामने आई हैं जिनमें उन्होंने बताया है कि किस तरह इंडस्ट्री में तोड़ा आउटसाइडर्स का मनोबल जाता है। उन्होंने अपने वीडियो में कई बड़े निर्माताओं और सेलेब्स का भी जिक्र किया है।



[ad_2]

Source link

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Uncategorized

China: International Yoga Day was celebrated in low-key events due to COVID-19, standoff with India – भारत के साथ तनाव, COVID-19 की वजह से चीन में सादगी से मना अंतरराष्ट्रीय योग दिवस

Published

on

भारत के साथ तनाव, COVID-19 की वजह से चीन में सादगी से मना अंतरराष्ट्रीय योग दिवस

चीन में इस बार सादगी से मनाया गया अंतरराष्ट्रीय योग दिवस

बीजिंग :

कोरोनावायरस (coronavirus) और भारत के साथ एलएसी पर तनाव की वजह से चीन में अतरराष्ट्रीय योग दिवस (International Yoga Day) इस बार बहुत ही सादगी से मनाया गया. चीन में योग काफी लोकप्रिय है. संयुक्त राष्ट्र ने साल 2014 में 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाए जाने की घोषणा की थी. इसके बाद चीन में योग दिवस के मौके पर आमतौर पर कई बड़े कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं.  

यह भी पढ़ें

इस साल, अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर मुख्य कार्यक्रम का आयोजन इंडिया हाउस में किया गया. कार्यक्रम की अगवाई चीन में भारत के राजदूत विक्रम मिस्री ने की. इस दौरान, भारतीय और विदेशी राजनयिकों के साथ उनके परिवार ने शिरकत की. मिस्री ने कहा कि इस साल अंतरराष्ट्रीय योग दिवस “चुनौतियों से भरा” रहा. उन्होंने बताया, “चुनौतियों के बावजूद हमने थोड़ा बड़े पैमाने पर कार्यक्रम आयोजित करने का सोचा था लेकिन बीजिंग में कोरोना महामारी फिर से फैलने से हमें अपनी योजना टालकर छोटा कार्यक्रम करना पड़ा.”  

चीन में पिछले कुछ हफ्तों में कोरोना के नए मामले सामने आए हैं. इससे पहले चीन ने कोरोनावायरस पर पूरी तरह से काबू करने की बात कही थी. एनएचसी ने शनिवार को कहा कि चीन में अब तक कोरोना के 83,352 मामले दर्ज किए गए जबकि 4,634 लोगों की मौत हुई है. 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, चीन में कुछ योग एसोसिएशनों ने योग दिवस के मौके पर कार्यक्रम आयोजित किए.

चीन में योग कार्यक्रमों के छोटे पैमाने पर आयोजित करने की एक वजह भारत और चीन के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प भी है. सैन्य झड़प की वजह से भारत और चीन सरहद पर तनाव और ज्यादा बढ़ गया है. चीन के साथ झड़प में 20 भारतीय जवान की जान गई थी. कहा जा रहा है कि इस झड़प में चीन को जानी नुकसान हुआ है.   

वीडियो: ‘अंतरराष्ट्रीय योग दिवस’ पर देशभर के लोगों ने किया योग

[ad_2]

Source link

Continue Reading

Uncategorized

Delhi To Conduct Serological Survey From June 27 To Curb Spread Of COVID

Published

on

गृहमंत्री ने दिल्ली सरकार को निर्देश दिए कि जिला स्तरीय टीम बनाई जाए और कंटेनमेंट जोन में सर्वे का काम 30 जून तक पूरा हो जाना चाहिए.

नई दिल्ली: केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह की अध्यक्षता में हुई बैठक में दिल्ली में कोरोना कंटेनमेंट रणनीति पर डॉ. पॉल समिती की रिपोर्ट पर चर्चा हुई. गृह मंत्रालय ने बताया, पूरी दिल्ली में 27 जून से 10 जुलाई के बीच एक सेरोलॉजिकल सर्वे कराया जाएगा, जिसमें 20 हजार लोगों की सैंपल टेस्टिंग होगी. इसके द्वारा दिल्ली में संक्रमण के फैलाव का आंकलन हो सकेगा और एक व्यापक रणनीति निर्धारित की जा सकेगी.

दिल्ली के हर जिले को एक बड़े अस्पताल से जोड़ा जाएगा. दिल्ली सरकार 22 जून तक एक योजना निर्धारित करेगी, 23 जून तक जिला स्तरीय टीमों का गठन होगा, 26 जून तक सभी कंटेनमेंट जोन्स का संशोधित परिसीमन किया जाएगा, 30 जून तक कंटेनमेंट जोन्स का सर्वे होगा.

होम आइसोलेशन की केंद्र सरकार को देनी होगी रिपोर्ट

दिल्ली सरकार हर मृतक का आंकलन कर बताएगी कि उसे कितने दिन पहले कहां से अस्पताल लाया गया था. अगर मरीज होम आइसोलेशन में था, तो उसे सही समय पर लाया गया था या नहीं. सभी कोरोना पॉजिटिव मामलों को पहले कोरोना सेंटर जाना होगा और जिन लोगों के घरों में सही व्यवस्था है और जो किसी अन्य को-मोरबिडिटी से ग्रस्त नहीं है उन्हें होम आइसोलेशन में रखा जाए. कितने लोगों को होम आइसोलेशन में रखा गया है, इसकी जानकारी भारत सरकार को देनी होगी.

कंटेनमेंट जोन्स का नए सिरे से परिसीमन

डॉ. पॉल समिती ने रिपोर्ट में कंटेनमेंट जोन्स का नए सिरे से परिसीमन, इनकी सीमा पर और इनके अंदर की गतिविधियों पर सख्ती से निगरानी और नियंत्रण का सुझाव दिया गया. इसके अलावा सभी संक्रमित व्यक्तियों की कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग और क्वारंटाइनिंग करने के लिए आरोग्य सेतु और इतिहास एप के इस्तेमाल का भी सुझाव दिया गया. कंटेनमेंट जोन्स के बाहर हर घर की लिस्ट लगाने पर भी चर्चा हुई. कोविड मरीजों को अस्पताल, कोविड सेंटर या होम आइसोलेशन में रखने का निर्देश दिया गया.

ये भी पढ़ें-

दिल्ली: जानें किस प्राइवेट अस्पताल में कितने बेड पर मिल सकेगा कोरोना का सस्ता इलाज, सर्कुलर जारी

Coronavirus: दिल्ली में 3000 नए केस और 63 लोगों की मौत, एक दिन में 1719 मरीज ठीक हुए

[ad_2]

Source link

Continue Reading

Uncategorized

Bollywood News In Hindi : Amrish Puri himself designed the costume for the role of Mogambo, Director Bonnie Kapoor gave Rs 10,000 as bonus | मोगैंबो के किरदार के लिए अमरीश पुरी ने खुद डिजाइन की थी कॉस्ट्यूम, डायरेक्टर बोनी कपूर ने इम्प्रेस होकर दिए थे 10 हजार रुपए

Published

on

दैनिक भास्कर

Jun 22, 2020, 05:00 AM IST

उमेश कुमार उपाध्याय.

बॉलीवुड के दिग्गज एक्टर अमरीश पुरी भले ही अब इस दुनिया में ना हों मगर उन्होंने अपने किरदारों को हमेशा के लिए अमर कर दिया है। मिस्टर इंडिया का मोगैंबो हो या डीडीएलजे के बाबूजी अमरीश ने अपनी एक्टिंग से किरादरों में चार चांद लगाए हैं। आज अमरीश जी के जन्मदिन के खास मौके पर उनके दोस्त बोनी कपूर ने भास्कर से बातचीत में उनसे जुड़े खास किस्से शेयर किए हैं।

हम पांच के लिए खुद डिजाइन की थी बिग

अमरीश पुरी को बड़ी स्टारडम मेरी फिल्म हम पांच से मिली। वे अपने काम को लेकर इतने डेडीकेटेड थे कि हर चीज की डिटेल्स में जाते थे। इस फिल्म में अमरीश जी ने अपनी बिग खुद ही डिजाइन की थी। निर्देशक बापू जी ने उन्हें इशारों में कुछ बताया और स्केच बनाकर दिया था। उसके बाद तो उन्होंने अपनी बिग खुद ही डिजाइन की।

फिल्म हिट होने पर दिया 10 हजार रुपए बोनस

हम पांच के लिए अमरीश पुरी को 40 हजार रुपए फीस दी गई थी। फिल्म हिट होने के बाद उन्हें बोनस के रूप में 10 हजार रुपए और दिया तो खुश हो गए। उस समय प्राण और बाकी विलेन 3 लाख रुपए लिया करते थे। मैंने उनसे पिक्चर बनते समय कहा था कि इसके बाद आपकी प्राइस बढ़कर ढाई लाख रुपए हो जाएगी। हम पांच से पहले भी उन्होंने पिक्चरों में रोल किया था, पर हम पांच से जो स्टारडम और पहचान मिली, वह अब तक के किए गए सभी किरदारों से कहीं ज्यादा थी। इस तरह हमारा साथ शुरू हुआ।

मिस्टर इंडिया में अमरीश से पहले कई एक्टर का लिया था ऑडिशन

मिस्टर इंडिया के लिए हम फ्रेश फेस देना चाह रहे थे।  इसके लिए मुंबई में जितने भी विलेन थे, उन सभी के ऑडिशन लिए थे। लेकिन जावेद ने जिस रुवाब से मोगैंबो के किरदार को लिखा था, उस पर कोई सही उतर नहीं पा रहा था तो हमने फाइनली अमरीश पुरी जी को ही लेना सही समझा। उस समय वे बहुत बिजी चल रहे थे। हमने उनसे कहा कि मुझे अगले हफ्ते से आपके 60 दिन चाहिए, क्योंकि पूरे क्लाइमैक्स के लिए आर के स्टूडियो में हमारे कुल 5 सेट लगे थे। उन्होंने तुरंत हां बोल दिया। 

दरअसल जब एक्टर्स पास जाते हैं तो वह कहते हैं कि सोचेंगे, करेंगे। उन्होंने कहा कि मैंने इसके बारे में बहुत सुना है और मैं खुश हूं कि तुम फाइनली मेरे पास आ गए। मैं जो भी डेट होगी आपकी उससे मैच करूंगा। इस तरह हमने शूटिंग शुरू की और बड़े विलेन के रूप में अमरीश पुरी का एक नया चेहरा सामने आया। हमने हम पांच में भी उन्हें इसीलिए लिया था कि यह एक फ्रेश फेस हैं। शोले में जब अमजद खान लाॉन्च हुए थे, वह भी बिल्कुल फ्रेश फेस थे।

मोगैंबो के लिए खुद डिजाइन करवाए कॉस्टयूम

हमने अमरीश पुरी को मोगैंबो तो बना लिया था, पर हमारे दिमाग में उसकी कॉस्टयूम और गेटअप क्लीयर नहीं था। पूरा गेटअप बनाने में अमरीश पुरी का बड़ा हाथ रहा। अपने खास टेलर माधव के साथ मिलकर अमरीश ने पूरा गेटअप डिजाइन बनवाया। मैं उस कॉस्टयूम से इतना प्रभावित हुआ था कि मैंने उनके डिजाइनर माधव को उस समय 10 हजार रुपए बोनस में दिए। हमारे मन में विलेन का किरदार तो था, पर क्लियर विजुअल नहीं था। इसे अमरीश जी ने खुद बनाया। बिग, कॉस्टयूम, हाथ में ली हुई छड़ी सब अमरीश ने खुद ही माधव के साथ डिजाइन की थी।

मोगैंबो के लिए किया खूब रिहर्सल 

अमरीश पुरी की आदत थी, जब उन्हें रोल भा जाता था, तब वह हर चीज की डिटेलिंग में जाते थे और मोगैंबो की हर डिटेलिंग में जाकर उन्होंने कमाल का काम किया। इस किरदार को जीवंत करने के लिए उन्होंने खूब रिहर्सल की थी। उन्होंने हर डायलॉग जावेद जी के साथ बैठकर पढ़ा था साथ ही सेट पर शेखर ने भी उनसे रिहर्सल्स करवाई। उन्होंने हर चीज के लिए बहुत ज्यादा कड़ी मेहनत की थी।

पूरा क्रेडिट में अमरीश पुरी को देना चाहूंगा

हीरो बड़ा तब होता है, जब सामने विलेन टक्कर का हो। मिस्टर इंडिया के सामने हमें बड़ा विलेन चाहिए था और मैं नहीं समझता कि अमरीश पुरी से बड़ा विलेन कोई हो सकता है। इसका पूरा क्रेडिट मैं अमरीश पुरी को देना चाहूंगा। खैर, लाइन तो जावेद जी ने लिखी थी- मोगेंबो खुश हुआ। यह तकिया कलाम लोग आज तक याद करते हैं, पर इस किरदार में चार चांद अमरीश पुरी ने अपनी मेहनत से लगाए थे।

मोगैंबो की कामयाबी से मिली और फिल्में

मिस्टर इंडिया के बाद हमने विरासत में उनके साथ काम किया। इस पूरे प्रोजेक्ट का सेटअप मैंने किया था। इसमें फिर अमरीश जी ने पॉजिटिव रोल किया था और कमाल का काम किया था। साथ ही मिस्टर इंडिया के बाद उन्होंने उनकी हॉलीवुड की पहली फिल्म की, साथ ही साउथ के भी नंबर वन विलेन हो गए थे। वे वहां की भी बड़ी फिल्मों में विलेन हुआ करते थे। यह सब मोगैंबो पर की हुई उनकी मेहनत की वजह से था।

[ad_2]

Source link

Continue Reading

Trending